Esai di Pasar | Hindi | Ekonomi

Berikut adalah esai tentang 'Pasar dan Klasifikasi Its' terutama ditulis untuk siswa sekolah dan perguruan tinggi dalam bahasa Hindi.

Esai # 1. बाजार की परिभाषाएँ ( Definisi Pasar):

जनसाधारण की भाषा में बाजार का अर्थ उस स्थान से लिया जाता है जहाँ वस्तुओं के क्रेता और विक्रेता एक साथ एकत्रित होकर वस्तुओं और सेवाओं का क्रय-विक्रय करते हैं.

दूसरे शब्दों में, एक ऐसा स्थान जहाँ वस्तु के क्रेता एवं विक्रेता भौतिक रूप में उपस्थित होकर वस्तुओं का आदान-प्रदान करते हैं, बाजार कहलाता है किन्तु अर्थशास्त्र में बाजार की परिभाषा में क्रेताओं और विक्रेताओं का भौतिक रूप से एक स्थान पर उपस्थित होना अनिवार्य नहीं ।

आधुनिक युग में वस्तुओं और सेवाओं का क्रय-विक्रय टेअन अथवा अन्अन संचार माध्म से भी सम्पन्न किया जाता है।। इसइसबपरकरबपबबबबरबपथिसीसथनिसीिसीिसीननननननननविशनविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविशविश

सामान्यतः वस्तु के क्रय-विक्रय में क्रेता और विक्रेता के मध्य सौदेबाजी का एक संघर्ष जारी रहता है और वस्तुओं का आदान-प्रदान तब तक सम्भव नहीं हो पाता जब तक क्रेता और विक्रेता दोनों एक कीमत स्वीकार करने को तैयार नहीं हो जाते.

विभिन्न अर्थशास्त्रियों ने बाजार को भिन्न-भिन्न रूप में परिभाषित किया है:

1. प्रो. जेवन्स के अनुसार, “बाजार शब्द का इस प्रकार सामान्यीकरण किया गया है कि इसका आशय व्यक्तियों के उस समूह से लिया जाता है जिसका परस्पर व्यापारिक घनिष्ठ सम्बन्ध हो और जो वस्तु के बहुत से सौदे करे.”

2. प्रो. कूर्नो के अनुसार, “बाजार शब्द से, अर्थशास्त्रियों का तात्पर्य किसी विशेष स्थान से नहीं होता जहाँ वस्तुएँ खरीदी व बेची जाती हैं बल्कि वह सम्पूर्ण क्षेत्र जिसमें क्रेताओं और विक्रेताओं के बीच स्वतन्त्र प्रतियोगिता इस प्रकार हो कि समान वस्तुओं की कीमतें सम्पूर्ण क्षेत्र में समान होने की प्रवृत्ति रखती हों। ”

3. प्रो. जे. के. मेबा के अनुसार, ”बाजार शब्द का अर्थ उस स्थिति सा जा ताता है ंेए वसक तु्तु की माँग उस स्थान पर हो े चन चन चन चन उस

उपर्युक्त सभी परिभाषाओं से एक बात स्पष्ट है कि अर्थशास्त्र में बाजार शब्द का अ थ थ स प त ूप प त त त त न त स न ब ब पष पष पष पष

Esai # 2. बाजार का वर्गीकरण ( Klasifikasi Pasar):

्रतियोगिता के आधार पर बाजार का वर्गीकरण अग्र रूप में किया जा सकता है:

A. पूर्ण प्रतियोगिता बाजार ( Pasar Persaingan Sempurna):

पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में निम्नलिखित विशेषताएँ पायी जाती हैं:

(1) क्रेताओं और विक्रेताओं की अधिक संख्या (Jumlah Besar Pembeli & Penjual):

पूर्ण प्रतियोगी बाजार की पहली आवश्यक शर्त यह है कि बाजार में क्रेताओं और विक्रेताओं की संख्होनीा बहुत होनीक होनीाहिए। क्रेता-विक्रेता की अधिक संख्या होने के कारण कोई भी विक्रेता अथवा क्रेता इस स्थिति मे होत होत ब ीमत ीमत ीमत ीमत इसइसपरपूपूपूपूपूपूपूनहींनहींनहींनहींनहींनहींनहींभोनहींसनहींनहींइसइसइसइसइसइस इसइसइसमइसम अथवअथवणअथवएअथव अथवएएोबब बोएो बअथवजअथव बबजअथव अथवअथवजअथव अथवजअथव जबम पूपू अथवअथव ोो ोो ोो नहीं रककसससस

(2) वस्तु की समान इकाइयाँ (Produk Homogen):

सभीसभीदविओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंओंववववववववववववववववववूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपूपारूपूप ूपूपूप गुणइय, गुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुणगुण।।।।।।।।।।।।।।।। ंरे शब्दों में, यह कहा जा सकता है कि वस्तु की इकाइयों के बीच प्रतिस्थापन लोच अनन्त होती औ औ वस वस वस---स ख स स स स र

(3) बाजार दशाओं का पूर्ण ज्ञान (Pengetahuan Pasar yang Sempurna):

पूर्ण प्रतियोगी बाजार में क्रेताओं को विक्रेताओं के बारे में तथा विक्रेताओं को क्रेताओं के बाज होत जहोतहोत इसइसपर प पपअधि उसअधि औ उसउस औउस गुणउस औगुण औगुण औगुण औगुण औगुण औउस औगुण औगुण औगुण गुण गुण गुण गुण गुण आ आ प प पप प प प प प प प औअधि औअधि औद यही कारण है कि बाजार में वस्तु की एक सामान्य कीमत पायी जाती ज तीहै

(4) फर्मों के प्रवेश व निष्कासन की स्वतन्त्रता (Gratis Masuk & Keluar dari Perusahaan):

पूर्ण प्रतियोगी बाजार में कोई कभी भी नई मर्म उद्योग म्ं म्रवेश कर सक ोईोई ा कोई भी पुरानी फर्म उदे बे जासती इसइसणपररपूपूपूपूपूपूपूपूककककककककक------------------आन-----------------प -पपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपपप

(5) साधनों की पूर्ण गतिशीलता (Mobilitas Faktor Sempurna):

मर्ण प्रतियोगिता में उत्पत्ति के माधन बिना किसी व्यवधान के एक उदक उद्दूस सेयोग उद्योग मेए (एा एक फर्म दूसे दूसदूस न ं म म म म म म म म हैं हैं?

(6) वस्तु की केवल एक कीमत (Harga Komoditas Tunggal):

पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में वस्तु की केवल एक ही कीमत प्रचलित होती है इससे अधिक कीमत लेने पर माँग शून्य हो जाती है।।

(7) हस्तक्षेप रहित नीति अर्थात् स्वतन्त्र व्यापार नीति (Kebijakan Perdagangan Bebas):

माजार में बिना हस्तक्षेप की नीति अपनायी जाती है अर्थात् किसी भी प्रकार सरकारी नियन्त्रण बाजार दशाओं कप नहींावितात

पूर्ण प्रतियोगिता की परिभाषा ( Definisi Persaingan Sempurna):

”पूर्ण प्रतियोगिता उस समय पायी जाती है जिस समय समय प्रप्येक उत्पादन की उपज की माँग पूर्ण लोचदार हो।।

इसका अर्थ यह है कि:

(i) ओंक्रेताओं की संख्या अधिक होती है जिससे कि एक विक्रेता की पूर्ति कुल बाजार पूर्ति का एक नगणक याग होती तथातथ

(ii) सभी क्रेता अपनी पसन्द के बारे में एक मत होते इसी इसी कारण बाजार पूर्ण होता है। ” - श्रीमती जॉन रॉबिन्सन

पूर्ण प्रतियोगिता एवं विशुद्ध प्रतियोगिता में अन्तर ( Perbedaan antara Persaingan Sempurna & Persaingan Murni):

(र्ण प्रतियोगिता ( Persaingan Sempurna) और विशुद्ध प्रतियोगिता (Persaingan Murni) में प्रोफेसर चैम्बरलिन ने निम्नलिखित शब्दों में भेद स्पष्ट किया है:

”विशुद्ध प्रतियोगिता का अर्थ उस प्रतियोगिता से है जिसमें एकाधिकारी तत्व पूर्णतया अनुपस्थित हों। र्ण प्रतियोगिता की तुलना में यह अधिक सरल तथ्य है क्योंकि पूर्ण प्रतियोगिता में एकाधिकार की अनुपस्थिति के अलावा अनाएँ तीपूणत पपूएँ

इस प्रकार विशुद्ध प्रतियोगिता में निम्न लक्षण पाये जाते हैं:

(1) विक्रेताओं और क्रेताओं की अधिक संख्या

(2) वस्तु की एकरूपता

(3) फर्मों के उद्योग में प्रवेश करने और छोड़ने की स्वतन्त्रता।

Klik di sini untuk memperbesar:

(i) बाजार का पूर्ण ज्ञान,

(ii) साधनों की पूर्ण गतिशीलता।

पूर्ण प्रतियोगिता की प्रमुख विशेषताओं में से एक भी विशेषता शत-प्रतिशत वास्तविक जगत् में नहीं पायी जाती। परन्तु कुछ अर्थशास्त्रियों के अनुसार कृषि वस्तुओं, सोने, शेयर आदि के बाजारों में पूर्ण प्रतियोगिता के लाषणे हैंेत

B. शून्य प्रतियोगिता बाजार ( Pasar Persaingan Nol):

वे बाजार जिनमें बिल्कुल प्रतियोगिता नहीं होती शून्य प्रतियोगिता का बाजार कहलाते हैं।

इसके प्रमुख उदाहरण निम्नलिखित हैं:

1. :काधिकार:

एकाधिकार बाजार की वह अवस्था है जिसमें वस्ं का केवल एक ही विक्रेता होता है और कररेकाओं की संख्होतीा अधिक होती।। विक्रेता का पूर्ति तथा मूल्य के निर्धारण पर पूर्ण नियन्त्रण होता है।

एकाधिकारी बाजार की निम्न विशेषताएँ होती हैं:

(i) बाजार में वस्तु का केवल एक विक्रेता होता है।

(ii) विशुद्ध एकाधिकार में वस्तु के स्थानापन्न नहीं पाये जाते।

(iii) फर्म और उद्योग में कोई अन्तर नहीं होता।

(Iv) एकाधिकारी का पूर्ति पर पूर्ण नियन्त्रण होता है परन्तु माँग पर इसका कोई नियन्त्रण न होने के कारण वस्तु की अधिक मात्रा बेचने के लिए उत्पादक को वस्तु की कीमत में कमी करनी पड़ती है जिसके कारण एकाधिकार में माँग वक्र बायें से दायें नीचे गिरता है ।

(v) उद्योग में अन्य फर्में प्रवेश नहीं कर सकतीं।

एकाधिकार की परिभाषा ( Definisi Monopoli):

प्रो. स्टोनियर एवं हेग के अनुसार, “विशुद्ध एकाधिकार के अन्तर्गत उत्पादक इतना शक्तिशाली होता है कि वह अपनी वस्तु को ऊँची-से-ऊँची कीमत पर भी बेच सकता है और इस प्रकार वह उपभोक्ता की सम्पूर्ण आय प्राप्त कर सकता है. ... विशुद्ध एकाधिकार में औसत आय व ए ् ए आयत ्।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।। बिन बिन।। बिन। बिन बिन बिन

फर्गुसन के अनुसार, ”विशुद्ध एकाधिकार तब होता है जब वस्वस को एक औक और करवल औक म फर्म द्वारा पैदा किया जाता जाब ंरे शब्दों में, एकाधिकार में एक फर्म वाला उद्योग होता है। ”

2. एक क्रेताधिकार:

यदियदिीमतीमतबमवसवसोोोोोोीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमतीमत ीमत ो ीमत ीमतीमत ीमतहो ो ोए हो ए हो हो हो हो हो हो हो हो हो हो हो,,,,,,,,,,,,,,,, ीमत ीमत ीमत ीमत. ऐसे बाजार में क्रेता का प्रभुत्व रहता है। ऐसे एक क्रेता के प्रभुत्व वाले बाजार को एक क्रेताधिकार कहा जाता है।

3. द्विपक्षीय एकाधिकार:

जब बाजार में वस्तु का केवल एक क्रेता हो और एक ही विक्रेता हो तो ऐसी दशा में द्विपक्षीय एकाधिकार होता है क्योंकि माँग पक्ष पर क्रेता का पूर्ण नियन्त्रण होता है और पूर्ति पक्ष पर विक्रेता का पूर्ण नियन्त्रण होता है.

C. अपूर्ण प्रतियोगिता बाजार ( Pasar Persaingan Tidak Sempurna):

जीवन्यावहारिक जीवन में शुद्ध एकाधिकार अथवा पूर्ण प्रतियोगिता के लक्षण नहीं पाये जाते, अतःास्तविक बाजारों को प क क क प प प अपूर्ण प्रतियोगिता बाजार के कई रूप हो सकते हैं।

किन्तु इन रूपों में प्रमुख हैं:

1. द्वि-विक्रेताधिकार या द्वियाधिकार (Duopoly):

जब बाजार में वस्तु के केवल दो विक्रेता ही पाये जायें तो ऐसी स्थिति को द्वि-विक्रेता अधिकार कअधिे हैं।। जबजबसबबकककककतहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीहोगीे होगीेेेेतियोगितेेेेेेेेेे salah satulatlema '' bisiklik '' '' '' '' '' AMON. "........ Pita gambar. Tampilkan gambar. Gambar yang tersedia di mana gambar & gambar & gambar mana yang menarik &.. Laman & laman & laman & laman & 1003 modern2, bis2, 100, 100. 100 file, .25........ .Gg .gggggmg pengikut 260 Tamu tamu di mana tamu ini, Tampilkan gambar. Tampilkan gambar lebih lanjut. Tampilkan gambar

ंरे शब्दों में, उन्हें वस्तु की वह कीमत प्राप्त होगी जो पूर्ण प्रतियोगिता की दशा में उत्पादकों को मिलती।। Kata kunci, kata kunci, kata kunci

2. अल्पाधिकार (Oligopoly):

जब बाजार में वस्तु के थोड़े विक्रेता हों अर्थात् तीन, , ार, पाँच आदि तो हमे हम अल्पाधिकार बाजार कहते हैं।। अल्पाधिकार बाजार में कीमत-निर्धारण भी द्वि-विक्रेताधिकार की भाँति होता है।। कुछ वस्तुओं के बाजार जैसे - सीमेण्ट, पेट्रोल आदि अल्पाधिकार के उदाहरण हैं।

3. एकाधिकारात्मक प्रतियोगिता (Kompetisi Monopolistik):

अपूर्ण प्रतियोगिता का जो उदाहरण वास्तविक जीवन में पाया जाता है वह एकाधिकारी प्रतियोगिता के रूप मे ं।।। अपूर्ण प्रतियोगी बाजार का विचार श्रीमती जॉन रॉबिन्सन द्वारा प्रस्तुत किया गया, जबकि एकाधिकारात्मक प्रतियोगी बाज ीीय ीीीीा चैम्बरलिन ने प्रस्तुत की।

शशीमतीीमतीीमतीकक कककीमती कककक हैंहैंहैंय औयऔऔ औऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔऔ औऔऔऔ औऔऔ औऔ कक कक चैमकचैमकचैमकककककककककक ककक चैमचैमक ककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककककक हैं चैमहैं तौ त हैं हैं हैंहैं? Baik ke dalam mobil?

हम यह जानते हैं कि बाजार में उत्पादकों को सरकार की ओर से पेटेण्ट अधिकार प्राप्त होता है अर्थात् प्रत्येक उत्पादक द्वारा बनायी गयी वस्तु का मार्क रजिस्टर्ड होता है और कोई दूसरा उत्पादक उस मार्क को नहीं अपना सकता. णाहरण के लिए, लक्स मार्का नहाने के साबुन की दृष्टि से और कर कउत उत्पादक द्ाारा नहीं अपनाया जा तकता य

अतः इस प्रकार से लक्स के उत्पादक को एकाधिकार प्राप्त है, परन्तु साथ ही बाजार में अनार्का उपलब्हैं। जैसे -हमाम, रेक्सोना, लाइफबॉय, लिरिल आदि। इन विक्रेकाओं के दूस परस्पर प्रतियोगिता होती है क्योंकि यदि एक ब्राण्ड के उत्पादक वस्तु के कीमत लें तो ग र ो र र र र र र र र

वाजार में वस्तु के अनेकों स्थानापन्न होने के कारण इनके बीच प्रतिस्थापन की लोच बहुत अधिक होती।।। अतः हम ह स स त त हैं ि ि ि ि ि स तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित हम हम हम हम हम हम हम हम हम हम हम हम हम हम तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित तियोगित

 

Tinggalkan Komentar Anda